डुग्गर प्रदेश दे जाने माने “नरसिंह देव जम्वाल “

जिल्लै अपने देश च कुसै गी कोई पुरस्कार मिलदा , ते सानु सारें गी बड़ी खुशी ओंदी| ते जे  पुरस्कार मिला दा ओए अपनी  स्टेट दे इन्सान  गी , तां खुशियें गी चार चान् लगगी जंदे नै | शायद इसी गै राष्टृ परेम या आपसी भाईचारा आखदे नै|

साल २०१९ डोगरे आस्ते एक बड़ी गै खुशखबरी लेइये आया लबदा ऐ |  जम्मू  दे जाने माने वरिष्ठ नाटककार ते लेखक नरसिंह देव जम्वाल ओरे गी ११ मारच २०१९ गी पदम् श्री अवॉरड कन्ने नवाजा गया | एह अवॉरड राष्टरपति राम नाथ कोविंद ओरें दित्ता |

नरसिंह देव जम्वाल ओंदा जन्म १९३१ विच जम्मू दे बलवाल शहर च ओया | १९४५ विच अपनी दसवीं पास करने दे बाद,  १९५३ च नरसिंह देव ओर जम्मू-कश्मीर पुलिस विच शामिल ओइये| जम्मू विश्वविधालय थां डोगरी विच मास्टर डिगरी आसिल करने आले नरसिंह ओरें अपने करियर विच कुल ४८ नॉवेल लिखे,  जिदे करिये १९७८ विच “ सांझी धरती बखले माहनु” गी साहित्य अकादमी पुरस्कार दित्ता गया|

लेखक ते नाटककार ओने दे कन्ने इने  भारतीय थियेटर विच बी बड़ा योगदान दित्ता | २००८ विच संगीत नाटक अकादमी अवॉरड इने अपने नाम कित्ता|

श्री जम्वाल ओंदे कुछ मशहूर कलाकृतियें विचां आन मऱयादा , मन्डलीक,  पिंजरा, कौरे गुट्ट,  सरकार, ते देवयानी नै| श्री जम्वाल ओर अपनी कला च किन्ने मजबूत हे , इदा अंदाजा आस लाई सकने की , अपने करियर विच लगबग ७० रेडियो डरामे लिखे जडे आकाशवानी उप्पर परसारित बी ओए|

इन्ने महान लेखक जिने अपनी उमर अपनी डोगरी भाषा गी समर्पित कित्ती ,  उने गी एह सम्मान मिलना बी चाईदा हा |

चेतना शर्मा केंदिय विश्वविदयालय जम्मू  की छात्रा |