Thursday, January 23, 2020

डोगरी दी अपनी पहचान

           ड़ी मिठी ऐ डोगरां दी बोली

           ते खाण्ड मिठे लोक डोगरां दे|

चेतना शर्मा

22 दिसम्बर दा दिन डोगरी समाज आस्ते बडा गे ख़ास िन |जियां हर बोली दी अपनी पहचान उन ऐ ठीक उइयाँ गे डोगरी दी अपनी पहचान ते इतिहास ऐ,  जड़ा की बड़े कट्ट लोके गी पता |

22 दिसम्बर दा दिन डोगरा समाज आस्ते बड़ा गे ख़ुशी दा दिन मन्या जांदा ,   तंआ की स्से दिन डोगरी पाषा गी अपनी पहचान मिलीगई ही | डोगरी ने अपना थड़ा लोकेदे दिले च बड़ी पैले गे जमाई लेदा हा,  पर इस ने अपना नाम देश दुनियां च फैलाया ज़िल्ले इसी ारतीय सविंधान विच मान्यता दित्ती गई | इस तो पैले डोगरी देश विच बड़ी जगह बोली जन्दी ही पर इसी पहचान दित्ती गई 22दिसम्बर,2003 विच |

ईयाँ आेया जंदा ऐ की जम्मू दे महाराजा रणबीर सिंह ओने अपने दरबार च डोगरी शब्द दा मतलब इस तरह दसेया के डुग्गर” माने दो इस्से” जड़े की दो जगह दे सन्दर्भ च दित्ते गए ने ओ जे मानसर”ते सुरिन्सर” |

शुरू च 18 पाषा साढ़े देश दी संशोधन सूची च शामिल हियाँ ते फी18 अगस्त, 2003   ज़िल्ले तिन और बोलिये, संथल, मैथिली,  ते बोडो गी सविंधान च जोड़ने दी गल्ल रखी ते उस्ले लालकृष्णअडवाणी रें 92वें संशोधन दे ंदर 8वीूची डोगरी गी बी जोड़ने दी गल्ल कित्ती,  ते उना दी एह कोशिश सफल ओयी और डोगरी गी इक नमी जगह मिली | डोगरी गी बि ओीयो ओदा मिलेया जड़ा की हिंदी या अंग्रेजी गी मिलेया ऐ |

लेकिन इथे सवाल ऐ उठदा ऐ की जड़ी इज़्ज़त ते जड़ा मान सम्मान साढ़े पुर्खें डोगरी गी दित्ता हा क्या आस आज बी देया ने आां?  मिगी लगदा ऐ के नेई, आस अपने आस पड़ोस या अपने कार गे दिखने ँ जे किन्ने गे लोक ने जड़े आज बी अपने बच्चें कन्ने डोगरी च गल्ल करदे ने |

थोड़े दिन पेले गे मैं इक 6-7 साल दे बच्चे कन्ने मिली,  ते ओ आखदा हा जे मेरे पापा बोलते हैँ, ोगरी बोलना ग़लत बात होती है | मिगी ऐ सुनिए बड़ा अचम्बा ओया की के उन आस बच्चें गी ऐ सीख देनी की साडी जड़ी अपनी बोली ऐ बोलना ठीक नेई ऐ? के फ़र्क ऐ डोगरी च?  आस क्यों पुल्ली जन्ने आ जे डोगरी गी बी ोइयो जगह दित्ती गेदी ऐ जड़ी की बाकी बोलिएं गी मिली दी |

 

आज लोक डोगरी बोलने च चकदे ने, ओह निक्का महसूस करदे, एह सोचदे जे डोगरी अनपढ़ लोकें n दी बोली ऐ | पर ऐ लोक पुल्ली जन्दे ने के जे तुस्स अपने माँप्यो दी दित्ती गई बोली गी नी अपनागे ओ ते ओ दिन दूर नेई ऐ ज़िल्ले साड़ी अपनी बोली डोगरी लुप्त ओ जाग |

आज डोगरी पहचान दिवस उपर सानु सारें गी मिलिए ऐ कसम लेनी चाईदी की अस्स अपनी माँ बोली दी पहचान खत्म नेई ओन देगे,  ते अपने कार अपने बच्चें गी डोगरी सखागे ते कन्ने डोगरी च गे गल्ल करगे ताँ के डोगरें दी पहचान बनी रवे |

                  डुग्गर पहचान अपनाई ,

                  ते माँ बोली डोगरी” बी अपनागे आँ|

                डोगरें दी शान ऐ डोगरी,

        ते डोगरी दे राग गे गागे आँ |

 

 

 

 

 

Recent posts

J&K suffered due to historical mistakes, economy suffered immensely: Anurag

Straightline News Network JAMMU, Jan 19: Union Minister of State for Finance and Corporate Affairs Anurag Thakur today said that Jammu and Kashmir has...

100 percent implementation of DDUGJY, PMDP in 252 Jammu villages

Straightline News Network DODA, Jan 19: Union Minister of State for Power, New & Renewable Energy, Skill Development and Entrepreneurship, Raj Kumar Singh today...

Rs. 25, 000 crore projects to be completed by year 2021 in J&K

Straightline News Network JAMMU, Jan 19: Central Government is committed on its promise for exemplary transformation on developmental front across Jammu and Kashmir after...

Construction of Rs. 1661 crore AIIMS Jammu to start by Feb 2020

Straightline News Network JAMMU, Jan 19: Union Minister of State for Health and Family Welfare, Ashwini Kumar Choubey, today said that civil works on...

60 lakh beneficiaries benefitted under Ayushman Bharat in J&K

Straightline News Network KATHUA, Jan 19: Union Minister of State for External Affairs & Parliamentary Affairs V. Muraleedharan today e-inaugurated Rural Haat and various...