Dogri Article: जम्मू दा नां

Jammu

जम्मू दे लोग जड़े सदियें दे इत्थे रवा दे नै,  कदे सोचेया इस जगा दा नाम “जम्मू” कियां पेया ? आओ जानचे जम्मू दा थोडा और इतिहास ।

आखदे ने नौवीं सदी च “जम्बुलोचन” नाम दा एक राजा हा जिन जम्मू शैर दी रचना कित्ती , ते उन्दे नाम उप्पर गै , इस जगह दा नाम “जम्मू” ओया ।

कईं दिग्गज आखदे ने के 3000 साल  पैले गै जम्मू शैर दी रचना ओई। पर कईं लोग इस गल्ल गी ठुकरांदे नै।

जम्बुलोचन अपने पिता “अग्निगरभ” दी 18 संताने चा इक हा। अग्निगरभ दी जम्मू तवि उप्पर पकड़ ही, जिदे करिये इने तवी दे आसे पासे अपना शासन  शुरू करी दित्ता।

अग्निगरभ दा जेठा पुत्तर बाहुलोचन हा, जिन अपने पिता दी मरित्यु दे बाद राज गद्दी सम्बाली । बाहुलोचन ने जम्मू तवि दे कनारे किला बनवाया , जिदा नाम “बाहु किला” ओया ।

बाहुलोचन दी मरित्यु दे बाद, जम्बुलोचन नै सारी जायदाद सम्बाली । आखदे ने एक दिन जम्मू  तवी दे किनारे जम्बुलोचन ने बड़ा गे शैल नजा़रा दिखया , ओह एह की बकरी ते शेर कट्ठे इको थां पानी पिया करदे हे। जम्बुलोचन गी एह नजा़रा बड़ा अचम्बा कित्ता , ते एह जम्मू शैर उने गी रास आईया । जिदे करिये इने इस जगह गी “जम्बुपुरा” नाम दित्ता। इदे बाच कईं  नाम बदले , थोडे चिर इसी जम्बु बी आखदे रे ,  ते फिर आखिर च नाम पेया जम्मू , जिस नाम कन्ने आज पूरी दुनिया जानदी ऐ।

चेतना शर्मा द्वारा डोगरी लेख

For feedback : sharmachetna810@gmail.com